सिर्फ फल ही नहीं केले के फूल और तने भी होते हैं ‘पौष्टिक’, हर्ट अटैक और कैंसर से करते हैं बचाव

केले का फूल दिल संबंधी बीमारियों के लिए किसी वरदान से कम नहीं होता। कैंसर और दिल संबंधी बीमारियों में इसका फायदा अचूक है।

केला हमारी सेहत के लिए कितना फायदेमंद है यह अब बताने की जरूरत नहीं रही। इसके तमाम औषधीय गुणों के बारे में हम सभी जानते हैं। केले के फल के अलावा उसके पत्ते और तनों तक के अनेक औषधीय लाभ होते हैं। केले के पेड़ के तनों से दिल संबंधी बीमारियों का इलाज संभव है। केले के पत्तों की शुद्धता की धार्मिक मान्यता भी होती है। दक्षिण भारत में इसका इस्तेमाल भोजन की थाल के रूप में भी किया जाता है। हर घर और रेस्तरां में भी केले के पत्तों का इस्तेमाल खाना परोसने के लिए किया जाता है। केले के फूल में भी फाइबर, प्रोटीन, पोटैशियम, कैल्शियम, कॉपर, फॉस्फोरस, आयरन, और विटामिन ई पाया जाता है। केले के फूल, पत्तियों और तनों की मदद से कैंसर और दिल के रोगों तक के उपचार किए जा सकते हैं।

केले का फूल – केले का फूल दिल संबंधी बीमारियों के लिए किसी वरदान से कम नहीं होता। कैंसर और दिल संबंधी बीमारियों में इसका फायदा अचूक है। दरअसल इन बीमारियों में हमारे शरीर के सेल्स पर फ्री रेडिकल्स हमला बोलते हैं और केले के फूल में पाये जाने वाले एंटी-ऑक्सीडेंट्स इन फ्री रेडिकल्स से लड़ते हैं और शरीर को नुकसान पहुंचने से बचाते हैं। केले के फूल में काफी मात्रा में आयरन पाया जाता है। यह शरीर में हिमोग्लोबिन की कमी को पूरा करता है जिससे शरीर में कभी खून की कमी नहीं होती है। केले के फूल का सेवन करने से कभी भी दिल संबंधी बीमारी से छुटकारा मिलता है।

केले का तना – केले के तने का सेवन करने से मिलने वाले फायदे इसके फल से मिलने वाले फायदे से बिल्कुल भी कम नहीं होते। इसमें पर्याप्त मात्रा में फाइबर्स मौजूद होते हैं जो वजन घटाने में मजज करते हैं। केले का तना शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करता है। किडनी स्टोन को बाहर निकालने में केले का तना बेहद असरदार औषधि है। यह आपकी पाचन क्रिया को दुरुस्त रखता है और कब्ज जैसी समस्या से भी छुटकारा दिलाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*